महिला हो या पुरुष, इन दिनों हर कोई हेयर फॉल का सामना कर रहा है. रोज थोड़ी मात्रा में बाल झड़ना आम बात है, लेकिन अगर यह रफ्तार तेज हाे जाए, तो गंजेपन का सामना करना पड़ सकता है। इस गंजेपन के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जिसमें से एक एलोपेसिया यूनिवर्सलिस (एयू) भी है. इसे एलोपेसिया का ही एक प्रकार माना गया है. एलोपेसिया यूनिवर्सलिस के चलते सिर के साथ-साथ पूरे शरीर के बाल झड़ने लगते हैं.आज इस लेख में आप एलोपेसिया यूनिवर्सलिस के लक्षण, कारण व इलाज के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया)

  1. क्या है एलोपेसिया यूनिवर्सलिस?
  2. एलोपेसिया यूनिवर्सलिस के लक्षण
  3. एलोपेसिया यूनिवर्सलिस के कारण
  4. एलोपेसिया यूनिवर्सलिस का इलाज
  5. एलोपेसिया युनिवर्सलिस का परीक्षण
  6. सारांश
जानिए एलोपेसिया यूनिवर्सलिस के बारे में के डॉक्टर

यह एलोपेसिया एरिटा का ही एक प्रकार है. इसे ऑटोइम्यून बीमारी माना गया है. एलोपेसिया एरिटा में सिर के बाल झड़ने से स्कैल्प पर पैच नजर आने लगते हैं, जबकि एलोपेसिया टोटलिस में पूरे सिर के बाल झड़ जाते हैं. वहीं, इसके उल्ट एलोपेसिया यूनिवर्सलिस में सिर के साथ-साथ पूरे शरीर के बाल झड़ने लगते हैं। एलोपेसिया यूनिवर्सलिस (एयू) एक ऐसी स्थिति है जो बालों के झड़ने का कारण बनती है।इस प्रकार का बालों का झड़ना खालित्य के अन्य रूपों के विपरीत है। एयू के कारण आपके सिर और शरीर के बाल पूरी तरह झड़ने लगते हैं। एयू एक प्रकार का एलोपेसिया एरीटा है। हालाँकि, यह स्थानीयकृत एलोपेसिया एरीटा से भिन्न है, जो बालों के झड़ने के पैच का कारण बनता है, और एलोपेसिया टोटलिस, जिसके कारण केवल खोपड़ी पर बाल पूरी तरह से झड़ते हैं।

(और पढ़ें - गंजेपन का इलाज)

Hair Growth Serum
₹899  ₹1699  47% छूट
खरीदें

जब कोई व्यक्ति एलोपेसिया यूनिवर्सलिस का शिकार होता है, तो उसमें निम्न प्रकार के लक्षण नजर आ सकते हैं -

  • पूरे शरीर के बाल झड़ना
  • आइब्रो के बालों का भी गिरना
  • सिर के बाल झड़ना
  • पलकों तक के बाल झड़ना

इस समस्या के चलते प्यूबिक एरिया यानी जननांगों व नाक तक के बाल झड़ सकते हैं. कुछ लोगों को इन सभी के साथ-साथ खुजली या जलन भी महसूस हो सकती है। जघन क्षेत्र और आपकी नाक के अंदर भी बाल झड़ सकते हैं।  कुछ लोगों को प्रभावित क्षेत्रों में खुजली या जलन महसूस होती है। एटोपिक जिल्द की सूजन और नाखून में गड़गड़ाहट इस प्रकार के खालित्य के लक्षण नहीं हैं। लेकिन ये दोनों स्थितियाँ कभी-कभी एलोपेसिया एरीटा के साथ हो सकती हैं। एटोपिक जिल्द की सूजन त्वचा की सूजन (एक्जिमा) है।

बाल झड़ने का इलाज जानने के लिए कृपया यहां दिए लिंक पर क्लिक करें.

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने की होम्योपैथिक दवा)

एलोपेसिया यूनिवर्सलिस के पीछे मूल कारण क्या है, फिलहाल इस बारे में कहना मुश्किल है. फिर भी डॉक्टर मानते हैं कि कुछ ऐसे फैक्टर हैं, जो इस प्रकार के हेयर फॉल का कारण बनते हैं. इसे एलोपेसिया एरिटा का एडवांस वर्जन भी माना जा सकता है. शोधकर्ता मानते हैं कि एलोपेसिया यूनिवर्सलिस एक ऑटोइम्यून डिजीज है, जिसमें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली गलती से हेयर फॉलिकल्स पर हमला करने लगती है। एयू का सटीक कारण अज्ञात है। डॉक्टरों का मानना है कि कुछ कारक इस प्रकार के बालों के झड़ने के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। एयू एक ऑटोइम्यून बीमारी है। यह तब होता है जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली अपनी ही कोशिकाओं पर हमला करती है। प्रतिरक्षा प्रणाली बालों के रोम को आक्रमणकारी समझ लेती है। प्रतिरक्षा प्रणाली एक रक्षा तंत्र के रूप में बालों के रोम पर हमला करती है, जिससे बाल झड़ने लगते हैं ।  यदि आपके परिवार में अन्य लोगों में भी यह स्थिति विकसित होती है, तो इसका आनुवंशिक संबंध हो सकता है। एलोपेसिया एरीटा वाले लोगों में अन्य ऑटोइम्यून बीमारियों, जैसे विटिलिगो और थायरॉयड रोग का खतरा अधिक हो सकता है। तनाव भी एयू की शुरुआत को बढ़ा सकता है। 

(और पढ़ें - बाल किन बीमारियों से झड़ते हैं)

आइए, इसके कुछ अन्य कारणों के बारे में विस्तार से जानते हैं -

आनुवंशिक

रिसर्च के मुताबिक सिर्फ प्रतिरक्षा प्रणाली के हेयर फॉलिकल्स को नुकसान पहुंचाने से एलोपेसिया यूनिवर्सलिस नहीं होता. नेशनल एलोपेसिया एरिटा फाउंडेशन का मानना है कि अगर पैरेंट्स में से किसी एक को या दोनों को यह समस्या रही हो, तो उनके बच्चे को भी भविष्य में यह बीमारी होने की आशंका बनी रहती है.

डैंड्रफ का इलाज जानने के लिए कृपया यहां दिए लिंक पर क्लिक करें.

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Kesh Art Hair Oil बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने 1 लाख से अधिक लोगों को बालों से जुड़ी कई समस्याओं (बालों का झड़ना, सफेद बाल और डैंड्रफ) के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Bhringraj Hair Oil
₹599  ₹850  29% छूट
खरीदें

पर्यावरण कारक

जर्नल ऑफ द अमेरिकन एकेडमी ऑफ डर्मेटोलॉजी की एक रिपोर्ट के अनुसार, एक जैसे जुड़वां बच्चों को आधे समय में ही एलोपेसिया एरीटा हो सकता है. इस लिहाज से कहा जाता सकता है कि आनुवंशिक और प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ मिलकर पर्यावरण भी बालों के झड़ने का कारण बन सकता है. इस पर्यावरण कारण के पीछे एलर्जीहार्मोन या विषाक्त पदार्थ हो सकते हैं.

हेयर फॉल की समस्या को जड़ से खत्म करने के लिए आप आज ही खरीदें एंटी हेयर फॉल शैंपू.

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ का भी कहना है कि इस समस्या को ठीक करने के लिए अभी कोई थेरेपी मौजूद नहीं है। इलाज का उद्देश्य बालों के झड़ने को धीमा करना या रोकना है। कुछ मामलों में, उपचार से प्रभावित क्षेत्रों में बाल वापस आ सकते हैं। इस स्थिति को एक ऑटोइम्यून बीमारी के रूप में वर्गीकृत किया गया है, इसलिए डॉक्टर प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाने के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स दे सकते हैं । उपचार बालों के रोम को सक्रिय करने और बालों के विकास को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। डॉक्टर रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देने और बालों के रोम को सक्रिय करने के लिए पराबैंगनी प्रकाश चिकित्सा का भी सुझाव दे सकता है। यदि उपचार काम करता है, तो प्रभावित क्षेत्रों में बाल दोबारा उगने में छह महीने तक का समय लग सकता है। लेकिन जब उपचार सफल होता है और बाल दोबारा उग आते हैं, तब भी उपचार बंद होने पर बालों का झड़ना फिर से शुरू हो सकता है।

फिर भी डॉक्टर मरीज की उम्र, उसकी मेडिकल हिस्ट्री, बाल झड़ने की गंभीरता के अनुसार इलाज करते हैं. हालांकि, एलोपेसिया यूनिवर्सलिस को कोई इलाज नहीं है, लेकिन फिर भी डॉक्टर मरीज को निम्न प्रकार की दवाएं दे सकते हैं -

  • डिफेनिलसाइक्लोप्रोपेनोन - यह टॉपिकल मेडिसिन है. मरीज की स्थिति के अनुसार डॉक्टर इसे इस्तेमाल करने की सलाह दे सकते हैं. कुछ लोगों के इलाज में इसे फायदेमंद पाया गया है.
  • स्क्वैरिक एसिड डिब्यूटाइलेस्टर - यह दवा एलोपेसिया एरीटा के इलाज में भी उपयोग की जाती है.
  • स्टेरॉयड - यह दवा इम्यून रिस्पॉन्स और सूजन को कम करने में मदद कर सकती है.
  • साइक्लोस्पोरिन - यह एक इम्यूनोस्प्रेसिव दवा है, जिसे मिथाइलप्रेडनिसोलोन नामक स्टेरॉयड के साथ दिया जाता है। 

(और पढ़ें - क्या झड़े हुए बाल वापस आ सकते हैं)

एयू के लक्षण अलग-अलग हैं। डॉक्टर आमतौर पर बालों के झड़ने के पैटर्न को देखकर एयू का परीक्षण कर सकते हैं। कभी-कभी,  स्कैल्प बायोप्सी भी की जा सकती है ।  स्कैल्प बायोप्सी में आपके स्कैल्प से त्वचा का एक नमूना निकालना और माइक्रोस्कोप के नीचे नमूने का अवलोकन करना शामिल है। सटीक कारण जानने के लिए,  डॉक्टर बालों के झड़ने का कारण बनने वाली अन्य स्थितियों, जैसे कि थायरॉयड रोग और ल्यूपस, का पता लगाने के लिए रक्त परीक्षण भी कर सकते हैं।

(और पढ़ें - स्कारिंग एलोपेसिया का इलाज)

Biotin Tablets
₹699  ₹999  30% छूट
खरीदें

एलोपेसिया यूनिवर्सलिस एक तरह की गंभीर समस्या है, जिससे पूरे शरीर के बाल झड़ने लगते हैं. डॉक्टर का कहना है कि यह समस्या व्यक्ति के उम्र, मेडिकल स्थिति और बाल को झड़ने के गंभिरता को देखते हुए हल निकला गया है. हालांकि इस समस्या का अभी तक कोई इलाज नहीं है लेकिन फिर भी कुछ दवाएं बताइ गई है, जिसे आप खाकर बाल झड़ने की समस्या को कम कर सकते हैं.

बालों को जड़ों से मजबूत करने के लिए आज ही घर ले आएं बेहतरीन क्वॉलिटी के बायोटीन टेबलेट.

Dr Shishpal Singh

Dr Shishpal Singh

डर्माटोलॉजी
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Sarish Kaur Walia

Dr. Sarish Kaur Walia

डर्माटोलॉजी
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Rashmi Aderao

Dr. Rashmi Aderao

डर्माटोलॉजी
13 वर्षों का अनुभव

Dr. Moin Ahmad Siddiqui

Dr. Moin Ahmad Siddiqui

डर्माटोलॉजी
4 वर्षों का अनुभव

सम्बंधित लेख

ऐप पर पढ़ें